विदिशा में सस्पेंस खत्म भाजपा ने घोषित किया उम्मीदवार

IMG-20210112-WA0003
IMG-20211106-WA0002

भोपाल। मध्य प्रदेश में भाजपा ने विदिशा संसदीय सीट पर सस्पेंस खत्म कर दिया है। इस संसदीय सीट से एक बार अटल बिहारी बाजपेयी 1991 में सांसद चुने जा चुके हैं। हालांकि वे इस चुनाव में विदिशा के साथ-साथ लखनऊ सीट से भी निर्वाचित हो गये थे और बाद में उन्होंने विदिशा सीट से इस्तीफा देकर लखनऊ सीट का प्रतिनिधित्व करने का निश्चय किया था। उनके स्थान पर भाजपा ने विदिशा में शिवराज सिंह चौहान को उतार दिया जो मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री होने तक इस सीट से सांसद रहे।
विदिशा सीट के इतिहास और भाजपा के लिए बेहद निरापद होने की वजह से यह अटकलें तेज हो गईं थी कि बनारस में प्रियंका गांधी के मुकाबले आने की संभावना को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां से अपना पर्चा भरेगें। लेकिन भाजपा ने आज अटकल को विदिशा से रामशंकर भार्गव की उम्मीदवारी की घोषणा करके विराम लगा दिया है।
मध्य प्रदेश की एक और हाई प्रोफाइल लोकसभा सीट भोपाल में पूर्व मुख्यमंत्री और दिग्गज कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह के मुकाबले भाजपा ने मालेगांव विस्फोट कांड में आरोपित रहीं साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की उम्मीदवारी की घोषणा की है। प्रज्ञा सिंह ठाकुर मूल रूप से भिंड जिले की निवासी हैं।
दो अन्य सीटों में गुना पर भाजपा ने डा. केपी यादव को ज्योतिरादित्य सिंधिया के मुकाबले उम्मीदवार बनाया है जबकि सागर से राजबहादुर सिंह की उम्मीदवारी की घोषणा की है।
इसके पहले साध्वी प्रज्ञा ठाकुर बुधवार को औपचारिक रूप से भाजपा में शामिल हुईं। पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, बृजेश लोनावत और भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राकेश शर्मा ने पुष्प गुच्छ देकर उन्हें सम्मानित किया।
उधर इंदौर से भाजपा आज भी उम्मीदवार की घोषणा नही कर सकी। वैसे लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा ताई की इस सीट से भाजपा शंकर लालवानी को उम्मीदवार बनाने के मूड में है।