‘‘हाशिये पर’’ का अगला अंक बुंदेली के स्टार गजल गो महेश कटारे सुगम पर केन्द्रित

IMG-20210112-WA0003

भोपाल। कला, संस्कृति और साहित्य की द्वैमासिक पत्रिका ’’हाशिये पर’’ का अगला अंक बुंदेली के दुष्यंत कुमार कहे जाने वाले सुप्रसिद्ध गजलकार महेश कटारे सुगम पर केन्द्रित होगा।
वंचितों के सरोकारों से जुड़ी हाशिये पर पत्रिका ने समानान्तर साहित्य में अपना अलग स्थान बना रखा है। पत्रिका के संपादक दीपक राजा लेखक भी हैं, विचारक भी हैं लेकिन मूल रूप से वह एक्टिविस्ट हैं जो हाशिये की अस्मिताओं और सांस्कृतिक धरोहरों को लेकर लगातार सक्रिय रहते हैं। विलुप्त हो रही भाषा व संस्कृति और साहित्य पर काम करने के लिए वह यायावरी भी खूब करते हैं। यह पत्रिका दीपक जी अपने संसाधनों से निकाल रहे हैं।
महेश कटारे सुगम पर केन्द्रित अंक निकालने का फैसला करके उन्होंने अपनी पत्रिका के लिए नया पड़ाव तय करने का उपक्रम किया है। दिल्ली साहित्य अकादमी से सम्मानित किये जा चुके सुगम दा ने लालित्य और भावपूर्ण अभिव्यंजना के लिए पहचानी जाने वाली बुंदेली को बगावत की भाषा में ढ़ालकर नये तेवर दिये हैं। इससे बुंदेली को नयी शक्ति मिली है। बुंदेली गजल के विशिष्ट ओजपूर्ण वाचन से उन्होंने इसकी पहुच को दूर-दूर तक फैलाया है। इसे देखते हुए लोगों को उन पर केन्द्रित अंक का बेसब्री से इंतजार रहेगा।