बहना ने भाई की कलाई पर प्यार बांधा है

IMG-20200820-WA0008
IMG-20200831-WA0002
IMG-20200831-WA0003
IMG-20210112-WA0003
IMG-20210509-WA0000

कोंच। भाई बहिन के पवित्र प्रेम का प्रतीक रक्षाबंधन त्योहार यहां परंपरागत रूप से हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। बहनों ने भाई की कलाइयों पर रक्षासूत्र बांधा और माथे पर तिलक लगा कर उनके दीर्घायु की कामना की, तो वहीं भाइयों ने भी उनकी रक्षा का वचन देते हुये उन्हें उपहार दिए।

आदि काल से चली आ रही परंपरा को आगे बढाते हुये गुरुवार को रक्षाबंधन पर्व यहां उत्साह और उमंग के साथ मनाया गया। दैनंदिन कार्यों से निवृत्त होकर लोगों ने मंदिरों में जाकर भगवान की पूजा अर्चना की और पहली राखी भगवान को ही समर्पित की। इसके बाद नये कपड़ों में सजे भाइयों की कलाइयों पर बहनों ने प्यार के दो धागे बांध कर भाई बहिन के पवित्र प्यार को और भी मजबूत किया। रक्षासूत्र बांध कर बहनों ने उनके माथे पर तिलक किया और मुंह मीठा करा कर उनकी आरती उतारी तथा उनकी लंबी आयु की कामना की। भाइयों ने भी उनको उपहार भेंट किए तथा हर पल उनकी रक्षा करने का वचन दिया। यही एक ऐसा त्योहार है जिस पर शादीशुदा बहनें भी बिन बुलाई दौड़ी भाई के घर चली आती हैं और भाइयों को स्नेह भरा रक्षासूत्र बांध कर भाई बहन के रिश्ते को और भी प्रगाढता प्रदान करती हैं। इस पर्व पर लोगों ने मंदिरों में भी जाकर मत्था टेका और ईश्वर से घर में सुख शांति बनाये रखने की कामना की।

 

 

 

श्रावणी पर्व मनाया विप्र समाज ने

श्रावण पर्व को विप्र समुदाय से जोड़ कर देखा जाता है और इस पर्व पर ब्राह्मïण समाज के लोग श्रावणी पर्व मना कर उपाकर्म करते हैं। गुरुवार को रामकुंड पर ब्राह्मïण महासभा एवं सनाढ्य सभा के संयुक्त तत्वाधान एवं जितेन्द्रकुमार तिवारी के संयोजकत्व में श्रावणी पर्व मनाया गया। जिला विद्वत् परिषद् के बरिष्ठ पदाधिकारी पं. ज्वालाप्रसाद दीक्षित के मुख्य आचार्यत्व तथा पं. रमेशचंद्र पटैरया की अध्यक्षता एवं पं. रामसिया तिवारी के बिशिष्टï आतिथ्य में श्रावणी उपाकर्म संपादित कराये गए, तत्पश्चात् हवनादि कार्य संपन्न हुए। इस दौरान ब्राह्मïण महासभा के अध्यक्ष देवीदयाल रावत, महामंत्री सांसद प्रतिनिधि अनुरुद्घ मिश्रा, सनाढ्य सभा के अध्यक्ष मनोज दूरवार, मंत्री मृदुल दांतरे, हरिश्चंद्र तिवारी, अखिलेश मिश्रा, गोविंदशरण मिश्रा, शिवाकांत तिवारी, आनंद दुवे, राजेन्द्र बबेले, अखिलेश बबेले, ओमप्रकाश कौशिक, संतोष तिवारी, सागर तिवारी, मुन्ना रावत ऐबरा तथा संस्कृत महाविद्यालय चांदनी के छात्रों सहित दो सैकड़ा विप्रबंधु उपस्थित रहे।

 

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments