कुश्ती भारतीय खेल परंपरा का अभिन्न अंग-एसपी,अखिल भारतीय स्तरीय दंगल देखने जुटी हजारों की भीड़

IMG-20200820-WA0008
IMG-20200831-WA0002
IMG-20200831-WA0003
IMG-20210112-WA0003
IMG-20210509-WA0000

 

हाटा स्थित वाजपेयी के बगीचे में आयोजित दंगल में दांव आजमाये पहलवानों ने

 

कोंच। शुक्रवार को कजली महोत्सव के अवसर पर यहां विगत बर्षों की भांति अखिल भारतीय स्तर का महा दंगल आयोजित किया गया जिसमें कई प्रांतों के नामी गिरामी पहलवानों ने अपने जोड़ मिलाए और दो दो हाथ किए। बरेली के सारिक पहलवान तथा झांसी के शैतानसिंह बीच सबसे बड़ी आठ हजार की कुश्ती बराबरी पर छूटी। इसके अलावा महिला पहलवानों ने भी जोड़ किए।

यहां शुक्रवार को हाटा स्थित वाजपेयी के बगीचे में विशाल दंगल का आयोजन किया गया जिसमें कई राज्यों के नामचीन पहलवानों ने हिस्सा लेकर दांव आजमाए। दंगल का शुभारंभ पुलिस कप्तान डॉ. सतीश कुमार व सीओ शीशराम सिंह ने संयुक्त रूप से फीता काट कर किया। एसपी ने पहलवानों के हाथ मिलवा कर कुश्ती की शुरुआत कराई। उन्होंने कुश्ती को प्राचीन भारतीय परंपरा बताते हुए कहा, आज आधुनिकता की चकाचौंध में यह भारतीय कला विलुप्त होती जा रही है, अपनी इस विरासत को सहेजने की जरूरत है। कोंच में अखाड़ा परंपरा शुरू होनी चाहिए जिसमें सभी नगरवासियों को आगे आकर अपना हाथ बंटाना चाहिए। संचालन महरवान सिंह यादव ने किया। निर्णायक इकबाल पहलवान कुश्तियों को बड़ी बारीकी से जज कर रहे थे। इससे पूर्व सभासद दंगलसिंह यादव सहित आयोजक मंडल के सभासद अमित यादव, धर्मेन्द्र यादव, विशाल गिरवासिया, चंदनसिंह यादव, अनिल पटैरया, महावीर यादव, हिम्मतसिंह, छोटू टाइगर, रणजीत यादव, हर्षित दुवे, जीतू यादव आदि ने माल्यार्पण कर अतिथियों का स्वागत किया। इस दौरान कोतवाल ललितेश नारायण त्रिपाठी, सुरही चौकी इंचार्ज ब्रजेश यादव, खेड़ा चौकी इंचार्ज दामोदर सिंह, एसआई प्रभुदयाल, एसआई कमलनारायण सिंह, पवन खिलाड़ी आदि मौजूद रहे।

 

 

  • इन पहलवानों के बीच हुए जोड़

अखिल भारतीय स्तर के दंगल में शैतानसिंह झांसी-सारिक बरेली, श्विजीत दतिया-शिवम मेरठ, औतारसिंह झांसी-सूरज मेरठ, विजय मेरठ-राममोहन कुठौंद, अंकित गोरा-संदीप हरियाणा, धीरेन्द्र खकल-अंकित मेरठ, रोहित डिकौली-नरेश हरियाणा, श्यामजी गौंती-अमर मेरठ, इंद्रजित दतिया-विशाल मेरठ, रंजीत दतिया-सुजान कोंच, बिष्णु दतिया-सोहिल बरेली, महिला पहलवान मोनू तोमर मेरठ-मौसम अग्निहोत्री कोंच, भीम मेरठ-संदीप पानीपत, अंशू मेरठ-दीपू कोंच, नरेश पानीपत-अंकित मेरठ, अमर मेरठ-अखिलेश झांसी के बीच रोमांचक मुकाबले हुए जिनमें कई बराबरी पर छूटे तो कईयों में फैसले आए।

 

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments