अतिक्रमण विरोधी अभियान व समस्यओं को लेकर व्यापारियों ने रखी दुकानें बंद

IMG-20210112-WA0003
IMG-20211106-WA0002

व्यापारी स्वत: हटा लें अतिक्रमण: एसडीएम

जालौन। प्रशासन द्वारा चलाए जा रहे अतिक्रमण विरोधी अभियान एवं व्यापारियों की समस्याओं को लेकर स्थानीय नवीन गल्ला मंडी व थोक फल व सब्जी मंडी के व्यापारियों ने मंगलवार को अपनी अपनी दुकानें बंद रखीं। अतिक्रमण विरोधी अभियान में व्यापारियों की मांग को लेकर एसडीएम ने दो दिन में स्वत: अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए अन्यथा की स्थिति में प्रशासन ने अतिक्रमण हटा देने की बात कही।
गल्ला व्यापार कल्याण समिति के अध्यक्ष योगेशचंद्र अग्रवाल के नेतृत्व में गल्ला व्याारियों में गोविंद सिंह तोमर, महेंद्र राठौर, संजू, देवेंद्र राठौर, धर्मेंद्र दीवौलिया, भूरे मामा, राजू राठौर, नीरज अग्रवाल, बृजमोहन निरंजन, उदयवीर यादव, पंकज गुप्ता आदि के साथ ही थोक फल एवं सब्जी विक्रेताओं ने एसडीएम सुनील कुमार शुक्ला को ज्ञापन सौंपकर बताया कि मंडी में आवारा जानवरों का विचरण होता है जिससे न सिर्फ मंडी में गंदगी फैलती है बल्कि आवारा जानवर मंडी में रखे अनाज व फल सब्जियों को भी खा जाते हैं जिससे व्यापारियों को नुकसान होता है। मंडी में दुकानों के सामने लगे टिन शैड व नीचे फर्श तीन साल से टूटे पड़े हैं, दीवारें भी चटक गई हैं जिससे कभी भी दुर्घटना हो सकती है। एेसे में टिन शैड, फर्श व दीवारों की मरम्मत कराई जाए। मंडी परिसर में स्थित हैंडपंप खराब पड़ा है जिससे मंडी में आने वाले किसानों व व्यापारियों को पेयजल के लिए समस्याओं का सामना करना पड़ता है। एेसे में खराब पड़े हैंडपंप को दुरुस्त कराया जाए। लाइसेंसधारियों को दुकानें बनवाकर दिलवाने, मंडी में स्थाई चैकीदार लगाने की मांग की थी। व्यापारियों ने उक्त समस्याओं का समाधान न होने पर 28 जनवरी दिन मंगलवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल की भी घोषणा की थी। उधर 28 जनवरी को प्रशासन द्वारा मंडी में दुकानें के आगे फैले अतिक्रमण हटाने के लिए अतिक्रमण विरोधी अभियान को चलाने की भी बात कही गई थी। गल्ला मंडी के साथ ही थोक फल व सब्जी की दुकानें मंगलवार की सुबह से ही बंद रही। सुबह लगभग दस बजे पुलिस प्रशासन की मौजूदगी में गल्ला मंडी में अतिक्रमण विरोधी अभियान चलाया जाने लगा। तीन दुकानों को हटा दिया गया जिस पर दुकानदारों ने आपत्ति जताते हुए एसडीएम सुनील कुमार शुक्ला से बातचीत का समय मांगा। व्यापारियों से बातचीत के बाद एसडीएम ने व्यापारियों को दो दिन में अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए अन्यथा की स्थिति में एसडीएम ने प्रशासन द्वारा अतिक्रमण हटाने की बात कही।