महिलाओं की सहभागिता के बिना पंचायतें अधूरी: लू

IMG-20210112-WA0003
IMG-20211106-WA0002

महिला नेतृत्व से खुलेंगे विकास के नए आयाम: डीएम

उरई। सतत विकास के लक्ष्य महिला सशक्तिकरण की कार्यशाला का आयोजन जिला प्रशासन द्वारा जीआईसी उरई में किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि पं. दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण विकास संस्थान लखनऊ के महानिदेशक एल. वेंकटेश्वर लू रहे। उन्होंने कहा कि पंचायतें महिलाओं की सहभगिता के बिना अधूरी हैं।
एसआईआरडी के महानिदेशक वेंकटेश्वर लू ने कहा कि सिर्फ भारत माता की जय बोलने से ही काम नहीं चलेगा, भारत में रहने वाली हर माता की जय होनी चाहिए और उससे पहले हर बेटी की जय होनी चाहिए। जिलाधिकारी डा. मन्नान अख्तर ने महिला नेतृत्व पर बल देते हुए कहा कि जहां महिलाएं नेतृत्व कर रही हैं वहां विकास के नए आयाम खुल रहे हैं। कहा कि बेटियों की घर से निकलने और समझाने की बहुत बातें हो गई। अब बेटों को भी समझाया जाए कि उन्हें कैसे बाहर आचरण करना है और बेटियों की इज्जत करना है। जिला विद्यालय निरीक्षक भगवत पटेल ने बालिका शिक्षा पर जानकारी दी और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर नवाचार योजना किशोरी शिक्षा समाधान के विषय पर बताया। आभार पंचायत सशक्तिकरण अभियान के प्रदेश अध्यक्ष अमित द्विवेदी इतिहास ने व्यक्त किया। सारिका तिवारी आनंद तथा अमित इतिहास ने मुख्य अतिथि को पंचायत लोकतंत्र का स्मृति चिह्न भी भेंट किया। कार्यक्रम को संजय सिंह परमार्थ, जिला विकास अधिकारी मिथलेश सचान, उपजिलाधिकारी गुलाब सिंह राजपूत, सुल्तान मेंहदी आदि ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में ग्राम पंचायत की महिला जनप्रतिनिधि, आशा कार्यकत्री, आंगनबाड़ी, समूह की महिलाएं तथा स्कूली छात्राएं सैकड़ों की संख्या में उपस्थति रही।