जिले में चार केंद्रों पर लगाए गए कोरोना वैक्सीन के टीके, सांसद, डीएम, एडीएम व एसडीएम की मौजूदगी में हुआ टीकाकरण  

IMG-20200820-WA0008
IMG-20200831-WA0002
IMG-20200831-WA0003
IMG-20210112-WA0003
IMG-20210509-WA0000
>
उरई। कोरोना वैक्सीन का टीका जिले में चार केंद्रों पर लगाए गए। सुबह ग्यारह बजे से मुख्यालय के राजकीय मेडिकल कालेज व जिला अस्पताल के अलावा सीएचसी नदीगांव के साथ साथ सीएचसी कालपी में इसकी शुरूआत एक साथ हुई।
कोरोना के टीका का इंतजार आज खत्म हो गया। जिले के चार केंद्रों पर कोरोना की वैक्सीन का टीका लगाया गया। जिला अस्पताल में जिलाधिकारी डा. मन्नान अख्तर की मौजूदगी में टीका लगाया गया। इससे पहले जिलाधिकारी ने वह सूची भी देखी जिसमें टीके लगाने वालों के नाम दर्ज थे। वहीं राजकीय मेडिकल कालेज में सांसद भानुप्रताप वर्मा के साथ साथ अपर जिलाधिकारी प्रमिल कुमार सिंह व उपजिलाधिकारी सतेंद्र कुमार सिंह की मौजूदगी में टीका लगाया गया। यह टीकाकरण का पहला चरण है। इसमें स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण होना है। मजे की बात यह है जिस बीमारी का कोई इलाज नहीं है उसकी वैक्सीन आने पर जब टीकाकरण हो रहा है तो लोग अपने को पीछे की ओर कहीं न कहीं खींचते दिखाई दे रहे थे। कुछ स्वास्थ्य कर्मियों का यह भी विचार है कि उनके साथियों को पहले टीका लग जाए बाद में वह लगवाएंगे क्योंकि वैक्सीन का रिएक्शन क्या होता है यह पता चला जाएगा। इससे यह साफ है कि स्वास्थ्य कर्मियों में वैक्सीन को लेकर संशय है। वैक्सीन को लेकर जो उत्साह होना चाहिए था वह नहीं दिखाई दे रहा था। कालपी सीएचसी में अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. अशोक कुमार की मौजूदगी में टीकाकरण हुआ। इसी प्रकार से नदीगांव में जिलाधिकारी डा. मन्नान अख्तर मौजूद रहे। कोरोना वैक्सीन का टीका लगते समय बहुत एहतियात बरती जा रही है। जिस कमरे में वैक्सीन का टीका लग रहा उस कमरे से भीड़ को दूर रखा गया तथा बिना मास्क के प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। हालांकि वैक्सीन का टीका लगाने के एक घंटे बाद तक कोई साइड इफेक्ट सामने नहीं आया। कई चिकित्सकों ने इसकी पुष्टि की। यह सफाई इसीलिए दी गई ताकि अन्य स्वास्थ्य कर्मी टीका लगवाने से डरें नहीं।
सीएचसी कालपी व बाबई से जुड़े एक सैकड़ा लोगों को दी गई कोरोना वैक्सीन की डोज
कालपी। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कालपी में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था तथा तमाम प्रबंधों के बीच कालपी व बाबई स्वास्थ्य केंद्र से जुड़े करीब एक सैकड़ा लोगों को कोरोना वैक्सीन की डोज दी गई। कालपी में पहली डोज अर्चना दुबे व दूसरी डोज अश्विनी पांडेय को देकर कार्यक्रम की शुरूआत की गई। सीएचसी कालपी के चिकित्साधीक्षक डा. समीर प्रधान ने बताया कि कालपी में प्रथम दिवस कोरोना वैक्सीन के लिए पहले कुल अठासी लोग चयनित किए गए थे लेकिन देर रात्रि में परिवर्तन सूची में कालपी के पचहत्तर व बाबई के दो दर्जन लोगों सहित एक सैकड़ा लोगों को कोरोना वैक्सीन की डोज देने के लिए दोपहर साढे़ ग्यारह बजे के करीब शुरुआत हुई। इस दौरान पहली डोज कालपी अरबन निकासा की एएनएम अर्चना दुबे व दूसरे नंबर पर अश्विनी पांडेय को प्वाइंट फाइव एमएल देकर शुरूआत की गई तथा आधा घंटे तक इन लोगों को देखरेख में रखा गया तथा बाद में जाने दिया गया। इस दौरान अश्विनी पांडेय ने बताया कि उन्हें किसी भी प्रकार की कोई तकलीफ महसूस नहीं हुई है। वह खुद को पूर्ण रूप से स्वस्थ महसूस कर रहे हैं। इसके बाद एक के बाद एक स्वास्थ्य कर्मचारियों डा. सुंदर सिंह, पुष्पेंद्र सिंह सिंह सहित करीब पनचानवे लोगों ने टीकाकरण कराया। चिकित्साधीक्षक डा. समीर प्रधान ने बताया कि अ_ाइस दिन बाद इन्हीं लोगों को दूसरी डोज दी जाएगी। इस दौरान डिप्टी सीएमओ अशोक चक, पुलिस उपाधीक्षक राजीव प्रताप सिंह, कोतवाली प्रभारी निरीक्षक आरके सिंह, उपनिरीक्षक रवि मिश्रा, विनेश कुमार, डा.  उदयवीर सिंह, संतोष कुमार, गणेश, कुंती आदि उपस्थित रही।