27 जिलों को छोड़कर जालौन जिले सहित प्रदेश के सभी जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष पद किये गये आरक्षित

20191128_121956
IMG-20200820-WA0008
IMG-20200831-WA0002
IMG-20200831-WA0003
IMG-20210112-WA0003

लखनऊ। जिला पंचायत अध्यक्ष के नये आरक्षण में भी जालौन जिला अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित रहा है। दस जिले इस श्रेणी के लिए आरक्षित किये गये जिनमें जालौन के अलावा कानुपर, औरेया, चित्रकूट, महोबा, झांसी, बाराबंकी, खीरी, रायबरेली और मिर्जापुर शामिल हैं।
छह जिले अनुसूचित जाति महिला के लिए आरक्षित किये गये हैं। इनमें शामिल हैं लखनऊ, सीतापुर, हरदोई, शामली, बागपत और कौशांबी।
इसी तरह ओबीसी महिला के लिए सात जिलों के अध्यक्ष पद आरक्षित किये गये हैं जिनमें बदांयू, संभल, एटा, कुशीनगर, बरेली, हापुड़ और वाराणसी हैं। ओबीसी के लिए 13 जिले आरक्षित किये गये। इस श्रेणी में आजमगढ़, बलिया, इटावा, फर्रूखाबाद, बांदा, ललितपुर, अम्बेडकर नगर, पीलीभीत, बस्ती, संतकबीर नगर, चंदौली, सहारनपुर और मुजफ्फरनगर हैं।
12 जिलों में अध्यक्ष पद महिला के लिए आरक्षित किया गया है। इनमें बहराइच, प्रतापगढ़, जौनपुर, सिद्धार्थनगर, आगरा, सुल्तानपुर, बुलंदशहर, शाहजहांपुर, मुरादाबाद, बलरामपुर और अलीगढ़ शामिल हैं।
27 अनारक्षित जिले हैं- गोरखपुर, गोंडा, प्रयागराज, बिजनौर, उन्नाव, मेरठ, रामपुर, फतेहपुर, मथुरा, अयोध्या, देवरिया, महाराजगंज, अमेठी, श्रावस्ती, कानपुर देहात, अमरौहा, हाथरस, भदोही, गाजियाबाद, कन्नौज, मऊ, कासगंज, मैनपुरी, फिरोजाबाद, सोनभद्र, हमीरपुर और गौतमबुद्धनगर हैं।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments