आईजीआरएस पोर्टल पर प्राप्त शिकायतों के समय से निस्तारण के दिए गए निर्देश

IMG-20200820-WA0008
IMG-20200831-WA0002
IMG-20200831-WA0003
IMG-20210112-WA0003
IMG-20210509-WA0000
>
उरई। जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन की अध्यक्षता में जनसुनवाई पोर्टल एकीकृत शिकायत निवारण प्रणाली आईजीआरएस पर लंबित शिकायतों की समीक्षा हेतु एक बैठक का आयोजन विकास भवन सभागार में किया गया। बैठक में ईडीएम पुष्पेंद्र सिंह द्वारा विभिन्न विभागों के आईजीआरएस पोर्टल पर विभिन्न संदर्भों से प्राप्त शिकायतों के बारे में सभी उपस्थित अधिकारियों को अवगत कराया गया तथा जिन विभागों के डिफाल्टर मामले पाए गए उनको तत्काल निस्तारित कराए जाने के निर्देश दिए गए तथा यह भी कहा गया कि अगली बैठक में डिफाल्टर पाए जाने पर संबंधित विभागीय अधिकारी के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
आज की बैठक में अनुपस्थित पाए जाने पर अधिकारियों पर नाराजगी जाहिर करते हुए उनसे स्पष्टीकरण तलब किया तथा यह भी निर्देशित किया कि अगली बैठक में यदि अनुपस्थित पाए जाते हैं तो उनका एक दिन का वेतन रोक दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि पोर्टल पर मुख्यमंत्री संदर्भ, आनलाइन प्राप्त संदर्भ, जिलाधिकारी संदर्भ, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संदर्भ, भारत सरकार/पीजी पोर्टल संदर्भ, तहसील दिवस संदर्भ, सीएचसी/लोकवाणी संदर्भों से शिकायतें प्राप्त होती रहती हैं जिसके तहत इन शिकायतों का पोर्टल पर प्रदर्शन समयावधि के उपरांत लंबित, समयावधि के अंतर्गत लंबित, उच्च स्तर पर आख्या प्रेषित, निस्तारित, अनमार्क, समस्त के रूप में होता हैं। सभी अधिकारी उक्त सभी संदर्भों से प्राप्त शिकायतों का प्रतिदिन अपनी आईडी एवं पासवर्ड से लागइन कर उनका ससमय निस्तारण करें। उन्होंने यह भी बताया कि आईजीआरएस पोर्टल पर प्राप्त शिकायतों की समीक्षा शासन स्तर से की जाती है इसलिए इन शिकायतों का समय से निस्तारण अत्यंत आवश्यक है। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी कार्यालयाध्यक्ष तथा विभागाध्यक्ष गुणवत्तापूर्ण तरीके से निस्तारित करें और निस्तारण करने से पूर्व यदि संभव हो तो शिकायतकर्ता को अवश्य सुना जाए। उन्होंने यह भी कहा कि शिकायतों के निस्तारण में किसी भी प्रकार की लापरवाही या उदासीनता होने पर शासन स्तर से संबंधित अधिकारी के विरुद्ध सीधे कार्रवाई हो जाएगी जिसके लिए वह स्वयं जिम्मेदार होंगे। उन्होंने यह भी कहा कि अगली बैठक में जिन विभागों के मामले डिफाल्टर पाए जाएंगे उन्हें स्वयं बैठक में ही उनसे तत्काल निस्तारित कराया जाएगा।