बिन सदस्य प्रधान अधूरे, एक बार सदस्य बनवाने के लिए फिर होगी मनौव्वल

IMG-20200820-WA0008
IMG-20200831-WA0002
IMG-20200831-WA0003
IMG-20210112-WA0003
IMG-20210509-WA0000

जालौन-उरई। प्रधानों के निर्वाचन की घोषणा तो हो गई लेकिन उनके कार्य संचालन में सदस्य पद के लिए लोगों की बेरूखी एक बार फिर रोड़ा साबित होगी।
ग्राम पंचायत गांव की संसद कही जाती है जिसमें वैधानिक रूप से सदस्यों का बड़ा महत्व है। लेकिन व्यवहारिक तौर पर पंचायत का पूरा काम सदस्यों को वाईपास करके प्रधान और सचिव अपनी मनमानी से चलाते हैं जिससे लोगों में सदस्य बनने का कोई आकर्षण नहीं रह गया है। इस बार भी ज्यादातर ग्राम पंचायतों में वार्ड सदस्य के लिए ग्रामीणों ने पर्चे भरने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई जिससे लगभग सभी गांवों की पंचायत में सदस्य के अधिकांश पद रिक्त हैं। दूसरी ओर सदस्यों का कोरम पूरा हुए बिना पंचायत की बैठक की औपचारिकता पूरी की जाना संभव नहीं है जिससे प्रधान फिलहाल शोपीस नजर आ रहे हैं।
बताते चलें कि जालौन ब्लाक की 62 ग्राम पंचायतों में 742 वार्ड सदस्यों के पद हैं। इनके रिक्त रह जाने से अब गांव-गांव में पंचायत घर पर खुली बैठक करके लोगों को सदस्य बनने के लिए मनाया जाता है। तब कहीं प्रधान का काम शुरू हो पाता है। हर बार यह रूकावट आती है फिर भी न तो सरकार और न ही अधिकारी पंचायत के सदन की बैठकें कराने के लिए कटिबद्धता दिखाने को तैयार नजर आते हैं।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments