बुझ गये दो घरों के दिये, परिजन हुये बेहाल

IMG-20200820-WA0008
IMG-20200831-WA0002
IMG-20200831-WA0003
IMG-20210112-WA0003
IMG-20210509-WA0000

कालपी -उरई |  कालपी में गुरुवार देर शाम को यमुना नदी में नहाने गए 5 दोस्त डूब गए थे, जिसमें से 3 लोगों को बचा लिया गया था, लेकिन दो को स्थानीय लोग बचा नहीं पाए थे जिनके 13 घंटे बाद गोताखोरो की मदद से पुलिस ने शव बरामद किए थे l जवान बेटों की मौत की खबर सुनकर परिवार का हाल बुरा है ,इनमें से मृतक कन्हैया की मौत खबर सुनते ही उसकी मां बेहोश हो गई l जिन्हे आनन फानन में कानपुर मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया l बता दें कि गुरुवार शाम को कालपी कोतवाली क्षेत्र के किला घाट स्थित बिहारी मंदिर दर्शन करने के बाद 5 मित्र राहुल द्विवेदी, कन्हैया दीक्षित, प्रांशु ,अर्पित सोनी और रामलखन यमुना नदी में नहाने के लिए गए थे l नहाते वक्त पांचों लोग डूब गए थे ,जिसमें से प्रांशु अर्पित और रामलखन को तो बचा लिया था l लेकिन बीच धारा में फ़न्से होने के कारण राहुल और कन्हैया डूब गए थे, जिनको 13 घंटे बाद मृत अवस्था में गोताखोरों ने बाहर निकाला था l जब इसकी जानकारी कन्हैया दीक्षित और राहुल के घर वालों को हुई तो परिजनों का हाल बेहाल हो गया l यमुना नदी में डूबे कन्हैया दीक्षित अपने घर का इकलौता बेटा था, साथ ही इकलौता  कमाने वाला भी था l वह भागवत कथा करता था, और साथ ही अपने मित्र मंडली के साथ सुंदरकांड का पाठ करता था l जिससे जो आमदनी होती थी ,उसे घर का खर्च चल जाता था l वही पिता धार्मिक कार्यक्रमों में ढोलक आदि बजाने  का काम करते थे ,कन्हैया की मौत की खबर जैसे ही उसकी मां को मिली वह बेहोश हो गई, जिसे मेडिकल कॉलेज कानपुर भेजा गया l वही इस हादसे मे मरने वाले राहुल  भविष्य राजनीति में आना चाहता था,राहुल दो भाई थे,जिसमे  बडा था l वह कालपी डिग्री कॉलेज में बीएससी सेकंड ईयर का छात्र था, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद कालपी का नगर महामंत्री  और परशुराम सेना का कार्यकर्ता भी था परिजनों के अनुसार वह राजनीति में आकर समाज सेवा करना चाहता था लेकिन असमय मौत से परिजन बेहाल है |

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments