झांसी में भाजपा के प्रत्याशी का अध्यक्ष के लिए निर्विरोध चुनाव तय, पर्चा नहीं भर सका सपा प्रत्याशी

IMG-20210112-WA0003
IMG-20211106-WA0002
id=":1fa" class="ii gt">
झाँसी। बुन्देलखंड के झांसी में जिला पंचायत अध्यक्ष पद को लेकर चल रही राजनीति में उस समय नया मोड़ आ गया जब समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी आशा गौतम अपना नामांकन पत्र दाखिल नहीं कर सकीं। जिस पर समाजवादी पार्टी ने सत्ताधारी पार्टी के नेताओं और प्रशासन पर गम्भीर आरोप लगाएं।
मालूम हो कि पंचायत अध्यक्ष के लिए आज नामांकन पत्र दाखिल होना था। जिसमें भाजपा प्रत्याशी पवन गौतम ने नामांकन पत्र दाखिल किया है। जबकि समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी आशा गौतम नामांकन पत्र दाखिल नहीं कर सकी। जिस कारण भाजपा प्रत्याशी पवन गौतम को निर्विरोध चुन लिया गया है।
भाजपा प्रत्याशी के निर्विरोध चुनने पर समाजवादी पार्टी के पूर्व गरौठा विधायक दीपनारायण सिंह यादव और सपा प्रत्याशी आशा गौतम ने प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें नामांकन नहीं करने दिया गया। उनके पंचायत सदस्यों के घरों पर पुलिस की पहरेदारी बैठाई गई। उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि भाजपा इस हद तक गिर जायेगी।
पूर्व गरौठा विधायक दीपनारायण सिंह ने कहा कि जिस तरह से जिला प्रशासन समाजवादी पार्टी के सदस्यों के घरों में पुलिस खड़ी किए हुए है, प्रत्याशी ने नामांकन पत्र खरीदा उनके खिलाफ मुकदमा लिखा गया। ऐसी कार्यवाही तो अंग्रेजों के जमाने में भी नहीं हुई थीं। यह पहली बार देखने को मिला है कि प्रशासन ऐजेंट बनकर काम कर रहा है। यह जीत भाजपा की नहीं बल्कि प्रशासन की जीत है। जनता के बीच भाजपा पहले ही हार चुकी है।