सीओ के आश्वासन पर आकांक्षा को न्याय दिलाने के लिए शुरू हुआ ‘दर्पण’ का धरना खत्म

IMG-20210112-WA0003
dir="auto">
* दर्पण प्रबंधक ने कहा, दोषियों की तत्काल गिरफ्तारी व घटना की उच्च स्तरीय जांच हो
कोंच। भीड़भाड़ भरे बाजार में खिलौने बेचने वाली आकांक्षा पर घातक केमिकल से अटैक किए जाने की गुत्थी सुलझाने में नाकाम पुलिस के खिलाफ अब जनाक्रोश पनपने लगा है। आकांक्षा को न्याय दिलाने के लिए दर्पण संस्था ने अपनी पूर्व में दी गई चेतावनी के मुताबिक ऐतिहासिक स्मारक चंदकुआं पर धरना शुरू किया लेकिन सीओ राहुल पांडे के इस आश्वासन कि चार दिन में पूरे मामले का खुलासा कर दिया जाएगा, पर धरना खत्म हो गया। संस्था ने मामले की उच्च स्तरीय जांच और हमलावरों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की है।
गौरतलब है कि 21 सितंबर को लाजपत नगर मोहल्ले में सब्जी मंडी के मुहाने पर स्थित अपनी दुकान पर खिलौने बेच रही युवती आकांक्षा के ऊपर ग्राहक बन कर आए दो नकाबपोश बदमाशों ने घातक केमिकल से जानलेवा हमला कर दिया था और सफेद रंग की अपाचे बाइक से मौके से निकल भागने में कामयाब रहे थे। हमले की शिकार युवती का झांसी में इलाज चल रहा है। इस दिल दहला देने वाले प्रकरण में हालांकि पूरे जिले की पुलिस चकरघिन्नी बनी है और आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए जीतोड़ मेहनत भी कर रही है लेकिन मामले में अभी तक कोई प्रगति नहीं होने और हमलावरों के गिरफ्तार नहीं होने से गुस्साए सामाजिक संगठन दर्पण जन कल्याण समिति ने चंदकुआं पर महारानी लक्ष्मीबाई की प्रतिमा के नीचे क्रमिक अनशन/धरना शुरू कर दिया। संस्था ने दोषियों की तत्काल गिरफ्तारी और मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। संस्था ने छह दिन पूर्व सड़कों पर प्रदर्शन करते हुए प्रशासन को ज्ञापन के जरिए अल्टीमेटम दिया था कि यदि चार दिन में मामले का खुलासा कर दोषियों को गिरफ्तार न किया गया तो संस्था के लोग धरना प्रदर्शन के लिए बाध्य होंगे। घटना का सप्ताह भर बाद भी खुलासा नहीं हो पाने की स्थिति में संस्था ने सोमवार से क्रमिक अनशन/धरना शुरू कर दिया। संस्था के प्रबंधक डॉ. मृदुल दांतरे ने कहा कि उक्त घटना की वह कड़े शब्दों में निंदा करते हैं और पुलिस प्रशासन से मांग करते हैं कि बेटी को जल्द न्याय दिया जाए ताकि जनता का प्रशासन, पुलिस और कानून व्यवस्था में भरोसा बना रहे। उन्होंने कहा कि अगर शीघ्र ही इस मामले में त्वरित कार्रवाई न की गई तो और भी धरना प्रदर्शनों का दौर शुरू हो सकता है। हालांकि सीओ राहुल पांडे ने धरना दे रही संस्था को भरोसा दिया कि पुलिस चार दिन में इस मामले का खुलासा कर देगी, इस पर संस्था ने अपना धरना फिलहाल मुल्तवी कर दिया। इस दौरान डॉ. मृदुल दांतरे, आशुतोष बुधौलिया, बसंत अग्रवाल, अमन सक्सेना, कृष्णकुमार, पारस वर्मा, अभय दांतरे, सचिन यादव दाऊ, श्यामू यादव, आशुतोष कुमार आदि मौजूद रहे।