अखिलेश की विजय रथ यात्रा से चुनावी माहौल की झलक मिली, किलो मीटरों तक उमड़ा रहा वाहनों का सैलाब

IMG-20210112-WA0003


उरई। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का विजय रथ बुधवार को हमीरपुर से कालपी होते हुए कानपुर देहात तक गुजरा। सन्निकट विधानसभा चुनाव के पहले राजनीतिक माहौल की परख के मददेनजर समाजवादी पार्टी का यह शो बेहद कामयाब रहा। इस दौरान किलो मीटरों तक सड़कों पर पार्टी के वाहनों का सैलाब उमड़ा रहा। अखिलेश यादव को मिले रिस्पोंस ने इस क्षेत्र में राजनैतिक आयोजन के सारे रिकार्ड तोड़ दिये। फिलहाल तो उनकी विजय रथ यात्रा समाजवादी पार्टी की लहर चलने का आभास छोड़ गई है।
राजीव गांधी के दौरे की दीवानगी याद आई
अखिलेश की विजय रथ यात्रा को इस क्षेत्र में जितना समर्थन मिला वह खुद सपाईयों की उम्मीद के परे था। इसलिए इस दौरान उनका उत्साह चरम पर पहुंच गया था। अखिलेश यादव भी उमड़ी भीड़ से गदगद नजर आये। पुरानी पीढ़ी के लोगों को 1991 में राजीव गांधी के सड़क से दौरे के समय लोगों में दिखी दीवानगी की याद अखिलेश के विजय रथ में दिखे नजारे से ताजा हो गयीं।
ब्राह्मण नेताओं में होड़
सैकड़ों गाड़ियों के काफिले के साथ जिले के नेता हमीरपुर की सीमा पर उदनपुर से ही अखिलेश की आगवानी के लिए पहुंच गये थे। तीन प्रमुख ब्राह्मण नेताओं हरिओम उपाध्याय, विनोद चतुर्वेदी व प्रदीप दीक्षित में ज्यादा से ज्यादा वाहन लेकर अखिलेश के कारवा में शामिल होने के लिए मची होड़ चर्चा का विषय रही।
पिछड़े वर्ग के बड़े चेहरों की नुमाइश
समाजवादी पार्टी इस बार अपने परंपरागत पिछड़ा वर्ग वोट बैंक को सहेजने के लिए भी पूरा चौकन्नापन दिखा रही है जिसे गत चुनाव में भाजपा वशीभूत कर ले गई थी। महान दल के अध्यक्ष केशव देव मौर्य की कुशवाहा समाज में बड़ी पकड़ मानी जाती है जबकि पूर्व सांसद राजाराम पाल बसपा से वाया कांग्रेस अब सपा में शामिल हो चुके हैं उनका कानपुर से कालपी तक अपने समाज में भारी दबदबा है। इन दोनों नेताओं को रथ में बिठाकर अखिलेश ने भरपूर तवज्जो दी। केशव देव मौर्य ने सपा से अपने गठबंधन का श्रेय हरिओम उपाध्याय को देकर उनके नम्बर बढ़ा दिये।
विनोद चतुर्वेदी को भी मिली तवज्जो
बुन्देलखण्ड में सपा के दिग्गज नेता चन्द्रपाल सिंह यादव और पूर्व विधायक दीपनारायण भी मौजूद रहे। इनके बीच अपने सम्बोधन में दो बार विनोद चतुर्वेदी का नाम लेकर अखिलेश जता गये कि उनकी निगाह में चतुर्वेदी की विशेष अहमियत है। सपा के जिलाध्यक्ष नवाव सिंह यादव और पूर्व विधायक दयाशंकर वर्मा के अलावा लगभग सभी प्रमुख स्थानीय नेता कार्यक्रम में शामिल रहे।