चुनाव का बिगुल बजने के पहले एक्सप्रेस वे पूरा कराने के लिए सरकार बेचैन , औद्योगिक विकास राज्य मंत्री जायजा लेने पहुंचे

IMG-20210112-WA0003
IMG-20211106-WA0002

 

उरई |  राज्य मंत्री औद्योगिक विकास विभाग धर्मवीर प्रजापति द्वारा बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे के निर्माण कार्य का स्थलीय निरीक्षण कर समीक्षा बैठक की गयी। इस दौरान उन्होंने एक्सप्रेसवे के किमी. 201 से किमी. 243 का स्थलीय निरीक्षण कर निर्माण कार्यों का जायजा लिया, जिसमें निर्माण कम्पनियों से संबंधित अधिकारियों के अलावा यूपीडा के सभी वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

गौरतलब है कि इन दिनों बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे का निर्माण कार्य तीव्र गति से चल रहा है। मंत्री जी ने प्रसन्न्ता व्यक्त करते हुए यह बताया कि बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे परियोजना के अन्तर्गत जनपद जालौन में स्थित यमुना नदी पर निर्माणाधीन बड़े पुल का निर्माण कार्य फरवरी, 2020 में शुरु हुआ था, जिसकी कुल लम्बाई 840 मी. है, इसका बायां हिस्सा, जो कि यातायात हेतु बनकर तैयार हो चुका है को रिकॉर्ड 18 माह में पूरा किया गया है। इसके साथ ही उन्होंने यूपीडा और निर्माण कम्पनी के अधिकारियों को शेष बचे दूसरी तरफ के हिस्से को भी शीघ्रता से पूर्ण करने के साथ एक्सप्रेसवे के अन्य निर्माण कार्यों को भी जल्द पूरा किए जाने हेतु निर्देशित किया। परियोजना का अब तक लगभग 74 प्रतिशत से अधिक भौतिक कार्य सम्पन्न हो चुका है। निरीक्षण के दौरान मंत्री जी द्वारा सड़क की गुणवत्ता एवं मानकों की जांच के साथ एक्सप्रेसवे के चल रहे उच्च स्तरीय निर्माण कार्य की भी सराहना की गयी।
उल्लेखनीय है कि यूपीडा द्वारा बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे में अब तक क्लीयरिंग एण्ड ग्रबिंग का कार्य 100 प्रतिशत और मिट्टी का कार्य 96 प्रतिशत से अधिक पूर्ण कर लिया गया है। कुल 882 में से 761 स्ट्रक्चर्स यानि 86 प्रतिशत से अधिक का कार्य भी पूरा किया जा चुका है। परियोजना की वर्तमान प्रगति में 94 प्रतिशत सबग्रेड स्तर तक का कार्य, 92.50 प्रतिशत जीएसबी स्तर का कार्य, 87 प्रतिशत डब्लू एमएम का कार्य पूर्ण हो गया है। दीर्घ सेतुओं के निर्माण हेतु सभी 1465 पाइल का कार्य पूर्ण किया जा चुका है। परियोजना के सभी 14 दीर्घ सेतुओं एवं 04 रेलवे ओवर ब्रिज का कार्य प्रगति पर है, इसके साथ ही निर्माणाधीन 19 (सीओएस) सहित फ्लाई ओवर्स का कार्य भी प्रगति पर है। बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे परियोजना की कुल लंबाई 296.07 किमी. है। उल्लेखनीय है कि रिकॉर्ड समय में अब तक कुल 223 किमी. लंबाई में बिटुमिनस स्तर का कार्य पूरा किया जा चुका है, यानि कि इतनी सड़क पूर्णतः बनकर तैयार हो चुकी है।