कलेक्ट्रेट में पुरानी पेंशन बहाली के लिए कर्मचारियों और शिक्षकों का जोरदार हल्ला

IMG-20210112-WA0003
IMG-20211106-WA0002

 

उरई |  प्रदेशीय आवाहन पर  गुरुवार को कर्मचारी, शिक्षक, अधिकारी एवं पेंशनर्स अधिकार मंच ने कर्मचारियों की पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू किये जाने की मांग को लेकर कलेक्ट्रेट. परिसर में  धरना देकर सभा की। धरना सभा की अध्यक्षता संगठन के अध्यक्ष विद्यासागर मिश्रा ने जबकि संचालन नरेश निरंजन एवं हरीश कुमार राठौर ने संयुक्त रूप से किया। धरना सभा को सम्बोधित करते हुए शिक्षक नेताओं ने कहा कि वर्तमान केन्द्र एवं राज्य सरकारों ने 2005 के बाद कर्मचारी एवं शिक्षकों की बुढ़ापे की लाठी यानी पुरानी पेंशन योजना समाप्त कर बिना गारंटी नयी पेंशन योजना लागू कर दी है जिसे सरकारों से अलग कर प्राइवेट कम्पनियों के शेयर मार्केट में अंश लगाकर कर्मचारी एवं शिक्षकों का भविष्य अंधकारमय किया गया  है। उन्होंने कहा कि नयी पेंशन स्कीम में सेवा निवृत्ति  के बाद मासिक आय की कोई गारंटी नहीं है। वक्ताओ ने कहा कि नरेन्द्र मोदी, योगी आदित्यनाथ एवं राजनाथ सिंह रक्षा मंत्री जब सत्ता में नहीं  थे तो घोषणा करते थे  कि जब भाजपा सरकार में आयेगी तो पुरानी पेंशन बहाल करवायी जायेगी | पर  वर्तमान केन्द्र एवं राज्य सरकार ने कर्मचारी एवं शिक्षकों को वादा खिलाफी एवं धोखा देकर नयी पेंशन थोप दी जो कि गलत है। वक्ताओं ने कहा कि अगर सरकार उनके  11सूत्रीय मांगों पर विचार नहीं करती है तो प्रांतीय आवाहन पर 30 नवम्बर को राज्य स्तरीय विशाल रैली लखनऊ में आयोजित की जायेगी। धरना सभा के उपरांत मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट को भेंट किया गया । इस मौके पर प्रमुख रूप से युद्ववीर सिंह कंथरियानरेश निरंजन, उपवन कुमार सिंह, बृजेन्द्र सिंह राजपूत, नृपेन्द्र सिंह सेंगर, महेंद्र भाटियाविद्यासागर मिश्रा, प्रताप सिंह राजा, गुलाब सिंह, पलक नायक  सहित सैकडो की संख्या में शिक्षक एवं कर्मचारी मौजूद रहे।