रानी लक्ष्मीबाई के बलिदान को देश कभी नहीं भूलेगा

IMG-20210112-WA0003
IMG-20211106-WA0002
dir="auto">
उरई. जिला एकीकरण समिति के तत्वावधान में कौमी एकता सप्ताह  के तहत शुक्रवार को रानी लक्ष्मीबाई की जयंती अखंडता दिवस के रूप में मनायी गयी. सुबह झलकारी बाई प्रतिमा स्थल से लक्ष्मीबाई की प्रतिमा तक प्रभातफेरी निकाली गयी. इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष घनश्याम अनुरागी ने कहा कि देश के लिए रानी लक्ष्मीबाई के बलिदान को यह देश कभी नहीं भुला पायेगा. उन्होंने समाज सौमनस्य बनाये रखने के लिए प्रतिबद्ध रहने की अपील की.
     रानी लक्ष्मीबाई की जयंती पर आज कोंच बस स्टैंड स्थित वीरांगना झलकारी बाई की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर जिला पंचायत अध्यक्ष घनश्याम अनुरागी के नेतृत्व में पदयात्रा निकाली गयी. मार्ग में विभिन्न महापुरुषों की प्रतिमाओं को नमन करते हुए पदयात्री टाउन हाल के सामने रानी लक्ष्मी बाई के प्रतिमा स्थल तक पहुंचे जहां रानी लक्ष्मीबाई को माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की गयी. इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष घनश्याम अनुरागी ने सम्बोधित करते हुए कहा कि रानी लक्ष्मीबाई की वीरता को अंग्रेजों को भी नमन करना पड़ा था.
   प्रभातफेरी में केपी सिंह, चौधरी जयकरन सिंह, रेखा वर्मा, सुनील शर्मा, युद्धवीर सिंह कंथरिया,प्रलुव्य निरंजन,अंशुमन सिंह सेंगर, शशिकांत शर्मा सोनू,पंकज सहाय, अजमेर यादव, प्रदीप नटराज, अलीम सर, शान्तिस्वरुप माहेश्वरी,
रामजी गुर्जर,नरेन्द्र प्रताप सिंह, रविन्द्र प्रताप, डॉ नरेश वर्मा आदि शामिल थे. आभार प्रदर्शन कार्यक्रम संयोजक केपी सिंह ने किया. बाद में गुरु नानक को भी एकीकरण समिति ने नमन किया जिनकी आज जयंती है.