• June 19, 2024

सामाजिक हालातो पर ‘ मौन की मंत्रणा’ कहानी संकलन संवेदनाओं का दर्पण 

सामाजिक हालातो पर ‘ मौन की मंत्रणा’ कहानी संकलन संवेदनाओं का दर्पण 

 

 

 

उरई । देश और विदेश की धरती पर अपने काव्य सुमन की सुगंध बिखेरने वाली डॉ. माया सिंह के प्रथम कहानी संकलन ‘ मौन की मंत्रणा’ का बीती शाम देश के जाने-माने साहित्यकारों और समीक्षकों की मौजूदगी में विमोचन किया गया | इस दौरान सम्मान समारोह के साथ-साथ अखिल भारतीय कवि सम्मेलन के आयोजन ने देर रात तक गीतो गजल और शायरियों की बरसात कर श्रोताओं को विविध एहसासों में सराबोर कर दिया। समारोह की अध्यक्षता जनपद के वरिष्ठ साहित्यकार पं. यज्ञदत्त त्रिपाठी ने की जबकि  मुख्य अतिथि  जिला पंचायत अध्यक्ष डॉ घनश्याम अनुरागी रहे | संचालन देश के ख्याति प्राप्त गीतकार अर्जुन सिंह चांद ने किया।

गौरतलब हो कि जनपद की वरिष्ठ कवियित्री डॉ. माया सिंह माया ने कहानी के क्षेत्र में अपनी दस्तक देते हुए ‘ मौन की मंत्रणा’ पुस्तक लिख कर कहानीकार के तौर पर अपनी पहचान बनाई | उनकी इस पुस्तक का विमोचन रविवार की शाम नगर के कालपी रोड स्थित राधा गार्डन सभागार में पूरी भव्यता के साथ किया गया | विमोचन कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों द्वारा सरस्वती के चित्र पर दीप प्रज्वलन के बाद  कवियित्री ने  शारदे स्तुति से किया | तत्पश्चात संवेदना साहित्य समिति की अध्यक्ष डॉ माया सिंह माया ने एवं समिति परिवार ने सभी अतिथियों और साहित्यकारों का माल्यार्पण और स्मृति चिन्ह तथा शाल ओढ़ाकर सम्मान किया। इस अवसर पर पुस्तक की समीक्षा करते हुए वरिष्ठ साहित्यकार प्रेम नारायण दीक्षित ने कहा कि डॉ माया सिंह द्वारा रचित कहानी संकलन ‘ मौन की मंत्रणा’सामाजिक हालातो पर संवेदनाओं का दर्पण है जिसमें उन्होंने सामाजिक दायरे के किरदारों की संवेदनात्मक जिंदगी को बड़े ही करीबी से दर्शाया | यह कहानी संकलन वास्तव में समाज को आईना दिखाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे मुर्धन्य साहित्यकार पंडित यज्ञ दत्त त्रिपाठी ने डॉ. माया सिंह के कहानी संकलन के लिए उन्हें बधाई एवं शुभकामनाएं दी |  इस दौरान उन्होंने कहा कि इनकी कहानी आम जनजीवन को बहुत ही संवेदनात्मक ढंग से स्पर्श करती हैं। डॉ श्रीमती गायत्री सिंह पूर्व प्राचार्य अरमापुर पीजी कॉलेज कानपुर ने डॉ.माया सिंह के कहानी संकलन को समाज का दिशा दर्शक बतलाया \ इस दौरान उन्होंने स्पष्ट कहा कि मौजूदा सामाजिक परिस्थितियों में पुस्तक पढ़ने की परंपरा कम होती जा रही है जो कि बेहद चिंता का विषय है | उन्होंने कहा कि यह अत्यंत आवश्यक हो गया है कि लोग पुस्तकों को पढ़ने और उनके मूल्य को समझने के प्रति जागृत हो। समारोह में अति विशिष्ट अतिथि नगर मजिस्ट्रेट, सदर विधायक गौरीशंकर वर्मा जिला प्रोबेशन  अधिकारी एवं साहित्यकार डॉ. अमरेंद्र \,  देश के सुप्रसिद्ध नाट्य अभिनेता निर्देशक और लेखक ललित सिंह पोखरिया , साध्वी प्रज्ञा भारती, डॉ रेनू चंद्रा , डॉ. शालिग्राम शास्त्री सहित बड़ी संख्या में गणमान्य लोग मौजूद रहे।

 

Related post

स्मार्ट सिटी अलीगढ़ – ओज़ोन सिटी

स्मार्ट सिटी अलीगढ़ – ओज़ोन सिटी

ओज़ोन ग्रुप की फिलॉसफी: ओज़ोन ग्रुप का दृष्टिकोण केवल कंक्रीट संरचनाओं को खड़ा करने और अधिक से अधिक पैसा कमाने तक सीमित नहीं है। यह एक बड़े सामाजिक उत्तरदायित्व को…
पूजा अर्चना के साथ शुरू हुई जगन्नाथ जी रथ यात्रा

पूजा अर्चना के साथ शुरू हुई जगन्नाथ जी रथ यात्रा

    उरई | श्री जगन्नाथ जी की रथ यात्रा की शुरुआत कालपी रोड स्थित  श्याम धाम से आज शाम 5.00 बजे से शुरू हुई। सर्वप्रथम जगन्नाथ जी की पूजा…

विहिप नेता को गोली मारे जाने की घटना में मुकदमा दर्ज

  उरई | विश्व परिषद के नेता और शिक्षाविद डॉ भास्कर अवस्थी को गोली मारे जाने की शुक्रवार को हुई घटना को ले कर उनके बड़े भाई प्रभाकर अवस्थी की…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *