रामलला सरकार के दरबार में पखवाड़े भर जारी रहेगा झूला उत्सव,राग रागिनियां जुगलबंदी सुन झूम उठे श्रोता

कोंच-उरई । प्रथम स्वाधीनता समर का मूक साक्षी रानी झांसी का गुरुद्वारा कोंच का रामलला मंदिर आजकल पक्के संगीत की तानों से सराबोर हो रहा है। यहां कल शाम से शुरू हुये झूला महोत्सव में राग रागिनियां रामलला मंदिर के प्रांगण में उतर कर भगवान रामलला सरकार को रिझाने के जतन में लगी हैं। संगीत की शास्त्रीय बिधा के जानकारों के अलावा भजन गायक भी यहां संगीत का ऐसा रस बिखेर रहे हैं कि बरबस ही श्रोता समुदाय भाव विभोर हो उठते हैं।
मंदिर के एकादश गद्दीधर महंत रघुनाथदास के सानिध्य में यहां रामलला मंदिर में झूला महोत्सव में बीती शाम शास्त्रीय संगीत के जानकार देशराज ने शास्त्रीय संगीत की ऐसी तान छिड़ी कि श्रोता समुदाय आनंद के सागर में डूबते उतराते दिखे। उन्होंने राग मियां मल्हार में जहां ‘पवन चलत घन गरजत जिया मोरो डरावे..’ की जोरदार प्रस्तुति दी वहीं राग बहार तीन ताल, राग मारवा झपताल तथा राग हेमंत में भी अपनी बेजोड़ प्रस्तुतियां देकर श्रोताओं को मुग्ध कर दिया।

ग्यासीलाल याज्ञिक ने राग धु्रपद में ‘राजत रघुवीर धीर..’ की प्रस्तुति दी। कु. हर्षिता त्रिपाठी द्विवेदी ने झूला गाते हुये अपनी प्रस्तुति ‘झूला पड़े हैं सरयू तीर, झूलें रामलला रघुवीर..’ गाकर संगीत पर अपनी उम्दा पकड़ का प्रदर्शन किया। प्रेमनारायण सविता ने गाया ‘प्यारी झूलन पधारो झुकि आये बदरा..’ सुना कर सभी को मुग्ध कर दिया। ब्रजविहारी सोनी ने चेतावनी भजन ‘चदरिया झीनी रे झीनी..’ की प्रस्तुति दी। राही जी ने, ‘तुझ में राम मुझ में राम, सब में राम समाया..’ सुना कर सभी को आनंदित कर दिया। वीरेन्द्र त्रिपाठी के गाये भजन ‘सीता राम दरस रस बरसे जैसे सावन की झड़ी..’ की बहुत ही उम्दा प्रस्तुति दी। सौम्या त्रिपाठी के ‘देना है तो दीजै जनम का साथ..’ तथा बुद्घसिंह बुंदेला के भजन ‘रंगीले तेरी झूलन है अति प्यारी..’ पर लोग वाह वाह कर उठे। सोनू सोनी, मनोज शांडिल्य सजैरा, रामप्रकाश दीक्षित, शंभू पटेल आदि की प्रस्तुतियां भी लाजबाब रहीं। संचालन वीरेन्द्र त्रिपाठी ने किया। तबले पर महेश व मथुराप्रसाद संगत कर रहे थे। महंत रघुनाथदास व महंत रामसेवक दास ने भक्तों को आशीर्वाद दिया।

Advertisements

रोटी बांध कर आ रहा है परेशान हाल किसान

कोंच    -उरई   । सरकारी सिस्टम की अच्छी परख रखने बाले किसान अपना चना चबैना बांध कर तहसील आ रहे हैं ताकि भूख लगने पर वह होटलों और ढावों में खुद को लुटने से बचा सकें। ऐसा ही नजारा आज यहां तहसील में देखने को भी मिला जब एक पिता-पुत्र ने फुरसत पाते ही अपनी कलेवा की पोटली खोल ली और खाना खाया। जमरोही कलां के रहने बाले ढलकोले पांचाल (80) पुत्र डमरू तथा उनका बेटा मिथलेश पांचाल गुजरे कल खतौनी निकालने के लिये आवेदन कर गये थे लेकिन अभी तक उन्हें खतौनी नसीब नहीं हुई।

पुलिस तत्परता से कुंये में डूबने से बचा युवक

कोंच-    उरई    । बीती देर शाम अंधेरे में बिना जगत के कुंये जा गिरे एक युवक को पुलिस तत्परता के चलते बचा लिया गया। बताया गया है कि पगडंडी से आ रहे युवक को अंधेरे में बिना जगत का कुंआ दिखाई नहीं दिया और वह उसी में चला गया। इलाकाई लोगों ने तत्काल पुलिस को सूचना दी और समय से पहुंच कर पुलिस ने उसे बचा लिया।

मिली जानकारी के मुताबिक कस्बे के मोहल्ला जवाहर नगर में स्व. फटू कुशवाहा के घर के पास एक पुराना कुंआ है जिसके किनारे जगत नहीं है और वह रास्ते के बिल्कुल करीब पड़ता है। बीती देर शाम लगभग नौ बजे उसी इलाके का रहने बाला अरुन कुशवाहा (18) पुत्र हरीराम मालगोदाम की ओर से बगीचे के रास्ते घर आ रहा था। अंधेरे के कारण उसे उक्त कुंआ दिखाई नहीं दिया और उसी में गिर गया। झम्म की आवाज सुन कर वहां हलचल मच गई और किसी ने तुरंत पुलिस को फोन घुमा दिया। सूचना पर बिना देरी किये सागर चौकी इंचार्ज घनश्याम सिंह तथा खेड़ा चौकी इंचार्ज उमेशसिंह भारी दल बल के साथ मौके पर पहुंच गये, दोनों कोबरा भी वहां पहुंच गये थे और फायर सर्विस के प्रभारी जगतसिंह, नबाबसिंह, त्रिलोकसिंह, कबीरखां, रामबाबू त्रिपाठी, दर्शन, हरीशंकर आदि भी पहुंच गये थे। कड़ी मशक्कत के बाद मोहल्ले के ही प्रेमनारायण, जीतू कुशवाहा की मदद से उक्त युवक को सकुशल बाहर निकाल लिया गया। प्रत्यक्ष दर्शियों के मुताबिक कुंये में पानी कम होने की बजह से युवक की जान बच गई वरना बड़ा हादसा होने से इंकार नहीं किया जा सकता है।

रिश्ते के भतीजे ने ही लगा दी साढे चार लाख की चपत

कोंच-उरई। अब तो रिश्तों पर से भरोसा उठने लगा है, एक रिश्ते के भतीजे ने महिला को लगभग साढे चार लाख की चपत लगा दी है। पीडि़ता आज मामले की शिकायत करने कोतवाली भी आई थी।
कोतवाली क्षेत्र के ग्राम कुदरा निवासी महिला उर्मिला पत्नी गोविंद सिंह जो फिलहाल किराये के घर में कोंच रहती है, ने मौजा कुदरा स्थित अपनी जमीन में से एक एकड़ जमीन बेची थी और 15 जुलाई को सब रजिस्ट्रार के यहां बैनामा भी हो गया। इस सारी प्रक्रिया के दौरान उर्मिला का रिश्ते में भतीजा राहुल पटेल पुत्र राजकुमार पटेल निवासी ग्राम दिरावटी उसके साथ रहा। आराजी के क्रेता कुंजविहारी पटेल ने उसे 2 लाख 70 हजार की चेक तथा 2 लाख 40 हजार रुपया नकद दिया था। उर्मिला ने आज पुलिस को प्रार्थना पत्र देकर बताया है राहुल के साथ जाकर उसने एक्सिस बैंक में 10 हजार रुपये से अपना खाता खोला तथा एटीएम भी बनवाया था जो राहुल के ही पास था। चेक उसने खाते में जमा करा दी थी। कुंजविहारी ने 17 जुलाई को 65 हजार रुपये भी राहुल को दिये थे। महिला का आरोप है कि जब वह 25 जुलाई को बैंक गई तो उसे जानकारी मिली कि उसके खाते से 1 लाख 37 हजार रुपया निकाल लिया गया है। इसके अलावा उसके पास जो 2 लाख 40 हजार की नकदी थी वह भी चुरा लिये गये। बहरहाल, महिला ने इन पैसों की हेराफेरी के लिये सीधा राहुल पर ही आरोप मढते हुये कहा है कि उसे 4 लाख 32 हजार की चपत लगाई है। पुलिस मामले की जांच करने की बात कह रही है।

 

चोरों ने रवा में लाखों के माल पर झाड़ू फेरी

कोंच-उरई। पुलिस की सुस्ती का चोर जमकर फायदा उठा रहे हैं, एक चोरी खुल नहीं पाती और चोर दूसरी को अंजाम देकर पुलिस को खुली चुनौती देने में लगे हैं। बीती रात कोतवाली क्षेत्र के ग्राम रवा में भी एक घर में धावा बोल कर चोरों ने लाखों का माल पार कर दिया है।
मिली जानकारी के मुताबिक कोतवाली क्षेत्र के ग्राम रवा जो एमएलसी रमा निरंजन का भी गांव है, के निवासी कृष्णकुमार पुत्र मंगलसिंह निरंजन बीती रात परिवार के अन्य सदस्यों के साथ सोया हुआ था। लगभग 12 बजे अज्ञात चोरों ने घर में घुस कर सोने चांदी के जेबरों के अलावा 43 हजार की नकदी भी पार कर दी और आराम से निकल गये। तकरीबन एक बजे कृष्णकुमार की बेटी की आंख खुली तो उसने घर में सामान बिखरा देखा। उसने अपने पिता को जब सारी बात बताई तो उसने देखा कि चोर उसके कपड़ों के बैग के अलावा एक जोड़ी झुमकी, एक अंगूठी, एक जंजीर, एक लॉकेट, एक जोड़ा ऐरन, बाली सोने के तथा दो जोड़ा चांदी की तोडिय़ां तथा नकदी चोर ले गये हैं। पीडि़त ने कोतवाली में प्रार्थना पत्र दे दिया है लेकिन समाचार लिखे जाने तक मामला दर्ज नहीं किया गया था।

 

परेशानी का सबब बनी है इमरजेंसी रोस्टिंग

कोंच-उरई। योगी सरकार ने जिला मुख्यालयों को चैबीस घंटे और तहसील मुख्यालयों को बीस घंटे बिजली आपूर्ति का जो झुनझुना पकड़ाया था वह वक्त के साथ जंग खाकर टूट कर बिखर गया है। निर्धिारित रोस्टिंग शैड्यूल के इतर लोकल फॉल्ट और इमरजेंसी कटौती के नाम पर कई कई घंटे बिजली गुल रहने से इस भीषण उमस भरी गर्मी में नागरिकों का जीना मुहाल हो गया है। गौरतलब है कि विभाग द्वारा कोंच तहसील मुख्यालय के लिये चार घंटे की कटौती का शैड्यूल बनाया गया है जिसमें सुबह पांच से छह बजे, दोपहर साढे दस से साढे बारह तथा शाम को पौने छह से पौने सात बिजली काटने का प्रावधान किया गया था। अमूमन देखने में आ रहा है कि इन घंटों में कभी कभी कटौती नहीं भी होती है जिसके एवज में रात में थोक के भाव बिजली काटी जाती है जिससे नागरिकों को इस भीषण उमस भरी गर्मी में बूढों और बच्चों के साथ समय काटना मुश्किल हो जाता है। इसके अलावा लोकल फॉल्ट भी शट डाउन का सबब बन कर नागरिकों को रुलाते हैं। इस बाबत विभागीय अधिकारी भी खुद को असहाय और असहज महसूस कर रहे हैं। उनका कहना है कि ऊपर से उन्हें कोड का मैसेज आता है और उसी के अनुरूप उन्हें बिजली काटनी पड़ती है। बहरहाल, इस स्थिति को लेकर नागरिकों में रोष व्याप्त है। मैंथा गल्ला व्यापारी कल्याण समिति के अध्यक्ष अजय रावत, किराना व्यवसायी कमलेश गिरवासिया तथा कांग्रेस नगर अध्यक्ष प्रभुदयाल गौतम ने मांग की है कि निर्धारित शैड्यूल के मुताबिक ही कटौती की जावे क्योंकि नागरिकों को उसके बाबत पर्याप्त जानकारी है। अघोषित कटौती के कारण रातों की नींद हराम है और वाटर सप्लाई भी बुरी तरह प्रभावित हो रही है।

Continue reading

अग्निदग्धा की इलाज के दौरान मौत

कोंच-उरई। बीती रात कैलिया थानांतर्गत ग्राम देवगांव में एक वृद्धा ने मिट्टी का तेल छिड़क कर खुद को आग के हवाले कर दिया। बुरी तरह झुलसी उक्त वृद्धा की इलाज के लिये झांसी ले जाते वक्त रास्ते में ही मौत हो गई। बताया गया है कि वृद्धा कैंसर रोग से पीड़ित थी जिसके चलते वह अवसाद ग्रस्त हो गई थी। मिली जानकारी के मुताबिक कैलिया थाना क्षेत्र के ग्राम देवगांव निवासी मंगली की पत्नी सियारानी (65) कैसर रोग से ग्रस्त थी। भयावह बीमारी की चपेट में आने के कारण अक्सर वह अवसाद में रहती थी और उसका मानसिंक संतुलन भी बिगड़ गया था। बीती रात उसने अपने ही घर में शरीर पर कैरोसिन ऑयल डाल कर आग लगा ली जिससे वह बुरी तरह झुलस गई। इलाज के लिये उसे सीएचसी कोंच लाया गया था जहां से उरई और फिर झांसी रेफर किया गया था। झांसी जाते वक्त रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। एसओ कैलिया प्रभुनाथ मौके पर पहुंच गये थे, शव का पंचायतनामा भर कर पोस्टमॉर्टम के लिये भेज दिया गया है।