सार्वजनिक हैण्डपम्पों के साथ गरीब की जोरू जैसा सुलूक, प्रशासन नहीं दे रहा ध्यान

20191128_121956
IMG-20200820-WA0008
IMG-20200831-WA0002
IMG-20200831-WA0003
IMG-20210112-WA0003

जालौन-उरई। सार्वजनिक हैण्डपम्प इनकी स्थापना में होने वाली गडबडी के कारण समय से पहले दम तोड जा रहे है। ब्लाक क्षेत्र के ग्राम खर्रा में इम्तियाज के घर के सामने एक वर्ष से खराब पडा हैण्डपम्प इस त्रासदी की गवाही दे रहा है।
जालौन जिले में मानक से अधिक हैण्डपम्प स्थापित है फिर भी बडी आबादी पेयजल सुविधा से असेवित है। प्रशासन की अनदेखी के कारण जो हैण्डपम्प चालू होते है दबंग उन पर निजी कब्जा करके व्यापक जनता को उसके लाभ से वंचित कर देते है। दूसरी ओर कई हैण्डपम्प विभाग के भृष्टाचार के शिकार हो जाते है जो नीचे डाले जाने वाले पाइप की चोरी की जाने की वजह से कुछ दिन चलने के बाद ही जबाव देने लगते है। इसलिये मौसम बदलते ही खराब हैण्डपम्पो को ठीक कराने के प्रार्थना पत्रो का अम्बार अधिकारियों के सामने लगने लगता है।
इस क्रम में खर्रा निवासी इम्तियाज ने जिलाधिकारी को शिकायत भेजकर बताया कि उनके दरवाजे के सामने लगा हैण्डपम्प एक वर्ष से पानी नही दे रहा जिससे उनके मुहल्ले में लोग परेशान है। कई बार तत्कालीन प्रधान व ग्राम पंचायत सचिव का ध्यान आकर्षित कराया जा चुका है लेकिन उन्होने कभी इसे संज्ञान में नहीं लिया। उन्होने डीएम से हैण्डपम्प के रीबोर के लिये हस्तक्षेप की अपील की ।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
मुही आज़म
मुही आज़म
1 month ago

अगर ज़ंजीर भी बदलती है तो अभिलेखों में रिबोर दर्ज होकर 30000 दर्ज होता है।